(Last Updated On: March 28, 2021)

मेरी एक मैत्री ने कहा

इस्लाम वह पहला धर्म,
जिसने दी औरतों को आज़ादी।
तो फिर सारी दुनिया मूर्ख जो कहती,
इस्लाम ही है औरतों की बरबादी।

                                                                      क्या यही है इस्लाम जो,
                                                                      तीन तलाक को माने जायज़।
                                                                     औरतों को कुचले और,
                                                                     तालीम को बताये नाजायज़। 

नकाब में रहना है अदबी,
जो गर सरक जाए तो बेअदबी।
शौहर करे तलाक की गलती,
बीबी हलाला के आग में जलती।

                                                                      औरत गर आवाज़ उठाये,
                                                                      चारों ओर मातम छा जाए।
                                                                      यही है इस्लाम की आज़ादी,
                                                                      जो औरतों की करे बरबादी।

<———— ***** ————>

मुख्य पृष्ठ पर लौंटे
DMCA.com Protection Status

 

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on stumbleupon

One comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: